Prerana ATC | Fight Trafficking

search

नाबालिग लड़के से लैंगिक शोषण के आरोप में राजस्थान के जज सस्पेंड, पीड़ित की मां ने FIR में कही नशा कराकर उत्पीड़न की बात

तारीख: 01 नवंबर, 2021
स्रोत (Source): टीवी 9 भारतवर्ष

तस्वीर स्रोत : टीवी 9 भारतवर्ष

स्थान : राजस्थान

राजस्थान के भरतपुर में एक विषेश न्यायाधीश को लैंगिक उत्पीड़न के आरोप के बाद सस्पेंड कर दिया गया है. भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के मामलों से निपटने वाले एक विशेष न्यायाधीश पर एक नाबालिग लड़के के लैंगिक उत्पीड़न का आरोप है. इस मामले में जज के साथ ही दो अन्य लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी. अब जज को सस्पेंड कर दिया गया है. जज के साथ ही एसीबी के एक अधिकारी को भी कथित तौर पर 14 साल के बालक को धमकी देने के आरोप में सस्पेंड कर दिया गया है.

राजस्थान हाई कोर्ट ने रविवार देर रात आदेश जारी कर जिला जज संवर्ग के जितेंद्र सिंह को शरुआती जांच और विभागीय जांच चलने तक तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया. सस्पेंड करने के दौरान जज का मुख्यालय जयपुर ट्रांसफर कर दिया गया है. बता दें कि पीड़ित बालक की मां ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराते हुए कहा कि जितेंद्र सिंह दो अन्य लोगों के साथ मिलकर एक महीने से उनके बेटे को नशा कराकर लैंगिक उत्पीड़न कर रहे थे. उनका कहना है कि सभी आरोपियों ने बालक को धमकी दी थी कि अगर उसने किसी से मारपीट की बात कही तो वह उसके परिवार को झूठे मामलों में फंसा देंगे.

बताया जा रहा है कि जस्टिस जितेंद्र सिंह ने कथित तौर पर भरतपुर के डिस्ट्रिक्ट क्लब में लड़के से दोस्ती की थी. लड़का वहां पर टेनिस खेलने जाता था. आरोप है कि जस्टिस सिंह उसे कथित तौर पर अपने घर ले गए थे. वहां पर उसके साथ कई बार अप्राकृतिक लैंगिक संबंध बनाए. बताया जा रहा है कि नाबालिग ने पिछले हफ्ते अपनी मां को अपने ‘छेड़छाड़’ के बारे में बताया. जिसके बाद पूरी घटना का खुलासा हो गया. दूसरे आरोपियों की पहचान जज के स्टेनोग्राफर अंशुल सोनी और भ्रष्टाचार निरोधक अदालत के एक अन्य कर्मचारी राहुल कटारा के रूप में हुई है.

 

टीवी 9 भारतवर्ष की इस खबर को पढ़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें.

 

अन्य महत्वपूर्ण खबरें

Copy link
Powered by Social Snap